Thursday, 4 May 2017

                            स्वरचित कविता पुस्तके कुछ कहती है
पुस्तकें कुछ कहती है........
तुम्हे सदा आगे बढने के लिए प्रेरीत  करती है
न रूठती, न शिकयत करती
सच्ची मित्र बनकर सदा साथ रहती है
पुस्तकें कुछ कहती है........
तुम्हे सदा आगे बढने के लिए प्रेरीत  करती है

                                    इसमें ज्ञान का अथाह भंडार  है .......
                                    इसमें भूत,वर्तमान,भविष्य का निर्माण है
                                    ज्ञान चक्षुओं खोलती है

पुस्तकें कुछ कहती है........
तुम्हेसदाआगे बढने के लिए प्रेरीत  करती है
पुस्तके अज्ञान से ज्ञान का मार्ग प्रशतकरती है
राष्ट्र निर्माण का मजबूत आधार प्रदान करती है
उन्नति का मार्ग प्रस्शत करतीहै
पुस्तकें कुछ कहती है........
तुम्हेसदाआगे बढने के लिए प्रेरित  करती है

                     आगे बढ़ो करो दोस्तीडूब जाओ
                     इसके अन्नत सागर मे...
                     पुस्तकें कुछ कहती है........
                    तुम्हे सदा आगे बढने के लिए प्रेरित करतीहै
                                                                                    
                                                    कृष्णा
                                              पुस्तकालयाध्यक्षा  के. वि ज्योतिपुरम


No comments:

Post a Comment